अपने Blog Website की Basic Settings कैसे करे?

Blog setup kaise kare

यदि आपने ब्लॉग्गिंग शुरू करने के लिए अपनी ब्लॉग वेबसाइट बनाई है, और आप अपनी वेबसाइट को अच्छे से सेटअप करना चाहते है तो इस पोस्ट में दी गयी Blogging Guide से आप समझ पाएँगे कि ब्लॉग वेबसाइट बनाने के तुरंत बाद आपको क्या-क्या सबसे महत्वपूर्ण काम करने है, Blog setup kaise kare? जिससे आपकी वेबसाइट अच्छे से गूगल के सर्च परिणाम में आ पाए और उसका ले-आउट विज़िटर्स को आकर्षित कर सके ताकि आपकी ब्लॉग्गिंग जल्दी से जल्दी एक सफल पैमाने पर पहुँच सके और आप ब्लॉग्गिंग में करियर आसानी से बना सके।

जानिए, ब्लॉग वेबसाइट कैसे बनाए? 

ब्लॉग वेबसाइट पर किसी आर्टिकल पोस्ट के शब्दो या पोस्ट में टेक्स्ट रूप में जानकारी के साथ-साथ, पोस्ट से संबंधित फोटो, ऑडियो, वीडियो आदि भी जोड़ सकते हैं। ब्लॉग शुरू करने के साथ ही कुछ चीजें हैं जिनको नए ब्लॉग में तुरंत ही लागू करनी होती है जैसे – पेज बनाना, केटेगरी बनाना, एक अच्छा टेंपलेट या अच्छी थीम सेट करना, Plugins डाउनलोड करना, वेबसाइट का साइटमेप सब्मिट करना, अगर वेबसाइट से संबंधित सोशियल मीडीया प्रोफाइल है तो सोशियल मीडीया बटन्स लगाना आदि सब।

इनके अलावा ब्लॉग वेबसाइट में बेहतर कस्टोमाइज़ेशन के लिए और भी कई सारे तरीके है जो आप धीरे-धीरे अपनी रिसर्च और अनुभव के साथ कर सकते है, जो आपकी वेबसाइट को विज़िटर्स के अनुकूल बना सके और आप ब्लॉग्गिंग में अच्छे से सफल हो सके।

Blog setup kaise kare?

एक ब्लॉग वेबसाइट किसी बात या जानकारी को शब्दों के माध्यम से व्यक्त करने का एक ज़रिया होती है और इस पर काम करने यानी ब्लॉग पोस्ट लिखने के काम को ब्लॉगिंग कहा जाता है जो कि ऑनलाइन पैसे कमाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। ब्लॉग्गिंग को सही ढंग से शुरू करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण चीज़ो का ख़ास ध्यान रखना पड़ता है, जो इस प्रकार है –

1. ब्लॉग थीम टेंपलेट जोड़ना (Blog Theme)

ब्लॉग के विषय (Blog Niche) से मिलता जुलता एक उपयुक्त थीम टेंपलेट (Blog Theme) लगाना बहुत ज़रूरी होता है यदि आपका ब्लॉग किसी विषय पर जानकारी प्रदान करने वाला है और आप किसी शॉपिंग वेबसाइट वाला थीम टेंपलेट लगाते है, तो यह विज़िटर्स के लिए स्वीकार्य नहीं होता है क्योंकि यह ब्लॉग के विषय से संबंधित नहीं है।

यदि थीम अच्छा नही हुआ तो विज़िटर्स आपके ब्लॉग में ज़्यादा रुचि नहीं रखेंगे, इसलिए यदि आप एक इनफॉर्मॅटिव ब्लॉग बनाते हैं, तो ऐसे ब्लॉग पर आधारित थीम ही आपको इस्तेमाल करना ज़रूरी होता है। एक आकर्षक थीम टेंपलेट आपके ब्लॉग की उपस्थिति को मजबूत करता है और विज़िटर्स ऐसे ब्लॉग वेबसाइट में रुचि लेते हैं।

यदि आप वर्डप्रेस पर अपना ब्लॉग बनाते हो तो आप मुफ्त में वर्डप्रेस थीम लगा सकते हो, इन थीम को आप अपने वॉर्डप्रेस डैशबोर्ड से आसानी से एक्सेस कर सकते है, इसके लिए Appearance >Themes >Add New स्टेप को फॉलो करे।

इसके अलावा यहा आपको GeneratePress, NewsPaper 9 और StudioPress Genesis Themes जैसी कई प्रीमियम थीम भी मिल जाती हैं जिसके लिए आपको एक कीमत चुकानी पड़ती है, इनकी ख़ास बात है कि ऐसी प्रीमियम थीम काफ़ी अच्छी होती है जो फास्ट होती है और बहुत सारी विशेषताओं के साथ आती है।

यदि आप ब्लॉगर.कॉम पर मुफ़्त ब्लॉग बनाते हो और आपको अच्छे टेंपलेट की आवश्यकता है जो XML डॉक्युमेंट फॉर्मॅट में एक फाइल के रूप में होता है, तो आप Shouters Blogger Template को लगा सकते हो, जो आपके ब्लॉग वेबसाइट को काफ़ी प्रीमियम बना देता है, इस टेंपलेट या अन्य एक्सटर्नल टेंपलेट (Blogger Templates) को अपने ब्लॉग में जोड़ने के लिए यानी XML फाइल अपलोड करने के लिए, सबसे पहले

  • अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड पर Theme विकल्प पर जाएँ। 
  • फिर, विंडो के ऊपरी-दाएं कोने पर, एक Backup/Restore बटन पर क्लिक करे।
  • जब आप इस बटन पर क्लिक करते हैं, तो एक पॉपअप विंडो XML फ़ाइल अपलोड करने के लिए खुलेगा।
  • Choose File बटन पर क्लिक करें और XML फ़ाइल अपलोड करें।
  • Open पर क्लिक करें और फ़ाइल अपलोड हो जाएगी।

एक बार जब आप इन स्टेप्स को पूरा कर लेते हैं, तो थीम टेंपलेट अपने आप ही आपके ब्लॉग पर लागू हो जाएगा और फिर आप अपने ब्लॉग के लेआउट में अपने अनुसार फेर-बदल कर सकते हैं।

2. ज़रूरी पेज बनाना (Make Pages)

एक ब्लॉग वेबसाइट पर पेज जोड़ना उतना ही ज़रूरी होता है जितना की ब्लॉग पोस्ट लिखना होता है, वेबसाइट में पेज (Pages) किसी ख़ास उद्देश्य के लिए जोड़े जाते हैं। आमतौर पर किसी वेबसाइट में शामिल किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण पेज होते है जैसे – About Us, Contact Us, Disclaimer, Privacy Policy आदि। ये पेज बनाने के लिए वॉर्डप्रेस के डॅशबोर्ड पर Pages > Add New पर जाना होता है।

अबाउट (About Us) पेज ब्लॉग राइटर के नाम/प्रोफाइल और ब्लॉग के मकसद का वर्णन करता है, जैसे कि ब्लॉग वेबसाइट बनाने का उद्देश्य जानकारी प्रदान करना है या किसी पर्टिक्युलर फील्ड में सर्विस प्रदान करना है, यह पेज आपके ब्लॉग के विषय/Niche को दर्शाता है कि आप किसी टॉपिक या फील्ड से संबंधित जानकारी अपने ब्लॉग पर लोगो के साथ साझा करते हो।

कॉंटॅक्ट (Contact Us) पेज का मकसद ब्लॉग राइटर से संपर्क करना होता है ताकि विज़िटर्स किसी भी मदद जैसे जैसे गेस्ट पोस्ट लिखने, किसी भी तरहा की जानकारी प्राप्त करने के लिए ब्लॉग लेखक से संपर्क कर सके, इसके अलावा यदि कोई आपकी वेबसाइट पर किसी प्रॉडक्ट को एंडॉर्स करना चाहता है तो वो आपको इस पेज के ज़रिए ही संपर्क करेगा।

डिसक्लेमर (Disclaimer) पेज थर्ड पार्टी वेबसाइटों के बारे में जानकारी रखता है और यह पेज एक आधिकारिक बयान होता है जो आपकी वेबसाइट को कानूनी दायित्व से बचाता है। जब कोई यूज़र आपके ब्लॉग वेबसाइट पर आता है तो डिसक्लेमर पेज एक चेतावनी के रूप में काम करता है, यह पेज यूज़र्स को सूचित करता है कि हमारे ब्लॉग वेबसाइट पर दी गयी जानकारी, किसी उत्पाद या सर्विस की सलाह से यदि कोई परेशानी यूज़र्स को होती है तो ब्लॉग राइटर को इसके लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

प्राइवसी पॉलिसी (Privacy Policy) पेज जोड़ना किसी ब्लॉग वेबसाइट के लिए अनिवार्य होता है जिसमें इस बात की जानकारी शामिल की जाती है कि आपके ब्लॉग में यूज़र्स के लिए कुछ प्रतिबंध हैं या नहीं, अगर कुछ प्रतिबंध है तो वो क्या-क्या है?

3. केटेगरी बनाना (Create Categories)

किसी ब्लॉग में आकर्षक श्रेणियों/Categories जोड़ना बहुत ज़रूरी होता है, जिससे आपका ब्लॉग विज़िटर्स के लिए किसी भी तरह की जानकारी खोजने के लिए एक आसान प्लॅटफॉर्म बन सकता है। Categories को वेबसाइट के मेन मेनू (Main Menu) में जोड़ा जाता है, जहा पर क्लिक करके आसनी से उस केटेगरी के पोस्ट की लिस्ट तक पहुँचा जा सकता है।

4. ज़रूरी प्लगइन्स डाउनलोड करना (Download Plugins)

Plugins वर्डप्रेस जैसे ब्लॉग्गिंग प्लॅटफॉर्म में ब्लॉगिंग करते समय कार्यों को काफ़ी आसान बनाने का काम करते हैं। वॉर्डप्रेस में यह सुविधा है बहुत ही प्रभावी साबित होती है। प्लगइन्स ब्लॉग पोस्ट को बेहतर तरीके से यूज़र फ्रेंडली बनाने में मदद कर सकते हैं, इनकी मदद से ब्लॉग पोस्ट में टेबल जोड़ना हो, टेबल ऑफ कॉंटेंट जोड़ना हो, पोस्ट का सर्च एंजिन अनुकूलन SEO करना हो, जैसे काम काफ़ी बेहतरी से कर सकते है। वॉर्डप्रेस ब्लॉग के लिए कुछ ज़रूरी प्लगइन्स (WP Plugins) इस प्रकार है –

  • Yoast Seo
  • Table of Contents
  • Contact Form
  • WP Super Cache
  • Smush Image Compression
  • Classic Editor
  • TablePress

ये WP Plugins ब्लॉग में लगाने के लिए वॉर्डप्रेस के डॅशबोर्ड में जाकर Plugins > Add New और Search Plugin in Search Bar > Click on Plugin > Install > Activate स्टेप को फॉलो करे।

5. साइटमेप सब्मिट करना (Submit Sitemap)

गूगल की कुछ एल्गोरिदम होती है, जो ज्यादातर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित होती हैं और जो केवल मशीन की भाषा ही समझती हैं। वर्ल्ड वाइड वेब में वरीयता बनाने के लिए साइटमैप सबमिट करने से मदद मिलती है। गूगल नियमित तौर पर किसी भी ब्लॉग को सर्च परिणाम में क्रॉल करने के लिए क्रॉलर भेजता रहता है। हमारे द्वारा गूगल की आवश्यकताओं को पूरा करने में असफल रहने पर हमारे ब्लॉग की रैंकिंग पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

गूगल सर्च कॉन्सोल (Google Search Console) में मुफ्त में साइन अप करके, अपनी वेबसाइट को यहा जोड़कर आसानी से वेबसाइट साइटमैप बना सकते हैं। साइटमैप सबमिट करने के लिए गूगल सर्च कॉन्सोल में Sitemaps > Add a new sitemap > Website URL/xml > Submit स्टेप को फॉलो करे। वर्डप्रेस जैसे प्लॅटफॉर्म पर अपने ब्लॉग वेबसाइट का साइटमैप बनाने के लिए  Google XML Sitemaps Plugin OR Yoast SEO Plugin का इस्तेमाल भी कर सकते है।

6. गूगल अनलयटिक्स सेट करना (Setup Google Analytics)

अपने ब्लॉग के ट्रैफ़िक को ट्रैक करना बहुत आवश्यक होता है, जिसमे आप पता लगा सकते है कि आपके कौन से पोस्ट विज़िटर्स ज़्यादा पसंद कर रहे हैं, गूगल पर कौन से कीवर्ड लोगों द्वारा अधिक खोजे जा रहे हैं, जिसके परिणाम स्वरूप विज़िटर्स आपके ब्लॉग पर आते है और ब्लॉग पर रियल टाइम विज़िटर्स को भी ट्रैक किया जा सकता है। ये सब संभव हो पता है सिर्फ़ Google Analytics के माध्यम से, जो हर वेबसाइट के लिए सेटअप करना ज़रूरी है।

गूगल अनलिटिक्स Setup करने के लिए सबसे पहले Google Analytics पर जाएं, वहा Sign Up करें, फिर अपनी वेबसाइट को जोड़ें और यहा से ट्रैकिंग कोड को कॉपी कर ले, इसके बाद अपने ब्लॉग थीम में इस ट्रैकिंग कोड को जोड़े, इसके लिए अपने ब्लॉग थीम में गूगल अनलयटिक्स कोड जोड़ने के विकल्प को खोजे, या फिर गूगल अनलयटिक्स Plugin का इस्तेमाल ट्रॅकिंग कोड जोड़ने के लिए करे।

7. सोशल मीडिया शेयर बटन लगाना (Adding Share Buttons)

ब्लॉग पर विज़िटर्स ट्रॅफिक लाने का सबसे अच्छा तरीका है सोशियल मीडीया, किसी ब्लॉग की बेहतर रैंकिंग के लिए ब्लॉग में सोशल मीडिया शेयर बटन लगाना बहुत महत्वपूर्ण है। शेयर बटन जोड़कर ब्लॉग के फॉलोवर्स के साथ संवाद करना आसान होता है, इसके साथ ही लोग आपके विचारों और ज्ञान को अन्य लोगों के साथ एक आसान कनेक्शन के ज़रिए साझा कर सकते हैं।

Social Share Button Plugin का इस्तेमाल करके आप ब्लॉग में Share Buttons जोड़ सकते है जो आपकी ब्लॉग पोस्ट के आख़िर या शुरू में दिखाई देंगे ताकि विज़िटर्स को पोस्ट पसंद आने पर वो पोस्ट को अपनी सोशियल मीडीया प्रोफाइल के ज़रिए दूसरो तक पहुँचा सके।

8. कीवर्ड रिसर्च करके पोस्ट लिखना (Keyword Research & Write A Post)

गूगल में ब्लॉग पोस्ट को रैंक करना इतना आसान नहीं है, फिर भी एक अच्छी कीवर्ड रिसर्च आपके ब्लॉग को रैंक कर सकता है, आपका ब्लॉग अभी शुरूवाती दौर में है तो आप कम प्रतिस्पर्धा (Low Competition) वाले कीवर्ड चुन कर भी ब्लॉग पोस्ट लिख सकते है और कीवर्ड रिसर्च करने के लिए आप गूगल कीवर्ड प्लानर (Google Keyword Planner) का उपयोग कर सकते है जो गूगल की ही एक फ्री सर्विस है। इसके अलावा आप प्रीमियम टूल (Paid Tools) का इस्तेमाल भी कीवर्ड रिसर्च के लिए कर सकते हो जैसे – Ahrefs और SEMRush

अब बात आती है अपनी ब्लॉग वेबसाइट के लिए अच्छी ब्लॉग पोस्ट लिखने की, तो आप बिना किसी कॉंटेंट के ब्लॉग को रैंक नहीं कर सकते हो, आपको ब्लॉग पोस्ट को एक बेहतर क्रम में लिखना है, ताकि आपके द्वारा लिखे गये पोस्ट कॉंटेंट को आसानी से समझा जा सके और इसमे किसी भी तरह की ग़लतिया ना हो ताकि पाठकों के लिए आपकी पोस्ट पढ़ने में सुविधाजनक हो। हर बार पोस्ट लिखते समय और पोस्ट को पब्लिश करने से पहले Yoast SEO plugin का इस्तेमाल ज़रूर करे, ताकि आपकी पोस्ट सर्च एंजिन के अनुकूल हो और अच्छे से आपका ब्लॉग रैंक कर पाए।

9. बेकलिंक बनाना (Create Backlinks)

बैकलिंक्स आमतौर पर एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर बनाए गए इनबाउंड लिंक को कहते हैं। बैकलिंक से वेबसाइटों पर पॉज़िटिव एफेक्ट पड़ता है, ये आपके ब्लॉग वेबसाइट की अथोरीटी को बढ़ाता है, जब गूगल आपकी वेबसाइट को सर्च एंजिन में क्रॉल करता है, तो पहले से अथोरीटी वाली वेबसाइटों से गुणवत्ता वाले बैकलिंक आपकी साइट की रैंकिंग को बढ़ाते हैं, इसलिए अपने ब्लॉग के लिए उच्च गुणवत्ता वाले लिंक बनाए ताकि आपके ब्लॉग को गूगल पर सर्च के ज़रिए अच्छा ट्रैफ़िक मिल सके।

10. गेस्ट पोस्ट्स लिखना (Guest Posting)

गेस्ट पोस्टिंग का मतलब दूसरे ब्लॉग के लिए पोस्ट लिखने से है, आप यह करने के लिए आसानी से ईमेल या फिर सोशल मीडिया के ज़रिए से दूसरे ब्लॉगर्स से संपर्क कर सकते हैं। गेस्ट पोस्टिंग से आपको अपने ब्लॉग पर ट्रैफ़िक प्राप्त करने में मदद मिलेगी और इससे आपके ब्लॉग पर आपकी अधिकारिता बढ़ती है।

अंततः आपकी कड़ी मेहनत और दृढ़ता ही ब्लॉगिंग में सफल होने की चाबी साबित होती है क्योकि आसानी से और बिना समय दिए कही से भी कोई भी परिणाम नही मिलता है, यहा दिए गये Blogging Guide को फॉलो करके अपनी ब्लॉग वेबसाइट को सेट (Blog Setup) करना है और अपने ब्लॉग पर लगातार आर्टिकल पोस्ट करते रहना है वो भी अच्छी रिसर्च और उचित एसईओ (SEO) ट्रिक्स को इस्तेमाल करते हुए, नयी ब्लॉग वेबसाइट को रैंक होने में कुछ समय लगता है, पर अच्छे परिणाम ज़रूर प्राप्त होते है, ब्लॉग्गिंग में निरंतरता बनाए रखना ही आपके ब्लॉग को अगले स्तर तक ले जाने में मदद कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here