12वीं के बाद क्या करे Commerce Wale Student?

12वीं के बाद Commerce Student 12th ke baad kya kare in hindi

जो स्टूडेंट अकाउंट्स में अपना करियर बनाना चाहते है वो HSC (10 + 2) में वाणिज्य यानी कॉमर्स विषय चुनते है, जो भारत में एक लोकप्रिय स्ट्रीम है। कक्षा 11 वीं -12 वीं में कॉमर्स की पढ़ाई करने के बाद हर स्टूडेंट के दिमाग़ में यही चलता है कि अब क्या करे यानी 12वीं के बाद Commerce Student कौनसा Course करे, 12 वीं के बाद उम्मीदवारों को स्नातक स्तर पर पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने के लिए कई सारे विकल्प भारत में मौजूद है, जो उनको अपना कैरियर बनाने में मार्ग प्रशस्त करते है।

कॉमर्स के छात्रों को आर्ट्स के छात्रों के मुक़ाबले अधिक लाभ यह मिलता है कि वे कॉमर्स और आर्ट्स दोनों के ही स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए अप्लाइ कर सकते है यानी उनमे प्रवेश ले सकते हैं। इस पोस्ट में आप कॉमर्स के छात्रों के लिए 12 वीं कक्षा के बाद पाठ्यक्रम चयन के बारे में विस्तार से जानेगे, सबसे पहले कक्षा 12 वीं पास करने के बाद कॉमर्स स्ट्रीम में उपलब्ध सबसे लोकप्रिय पाठ्यक्रमों के बारे में जानते है।

Bachelor of Commerce (BCom)वाणिज्य स्नातक यानी बीकॉम, कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए सबसे लोकप्रिय कोर्स है, यह कोर्स प्रमुख रूप से बीकॉम ऑनर्स (BCom Honours) और बीकॉम जनरल (BCom General) के रूप होता है। कॉमर्स स्ट्रीम में, अकाउंटेंसी, बिजनेस स्टडीज और इकोनॉमिक्स मुख्य विषय होते हैं, और इसमे गणित वैकल्पिक विषय होता है।

इस प्रकार, वाणिज्य स्ट्रीम को दो भागो में विभाजित किया जाता है, गणित विषय के साथ कॉमर्स और गणित विषय के बिना कॉमर्स। जिन छात्रों ने कक्षा 11 वीं और 12 वीं में गणित के साथ कॉमर्स की पढ़ाई की होती है, वे स्नातक के लिए बीकॉम ऑनर्स का विकल्प चुन सकते हैं, और जिन छात्रों ने 11 वीं – 12 वीं में गणित विषय के बिना कॉमर्स की पढ़ाई की होती है वे बीकॉम जनरल का विकल्प चुन सकते हैं।

12वीं के बाद Commerce Courses

गणित विषय के साथ 11 वीं – 12 वीं में कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए 12वीं के बाद कई सारे विकल्प उपलब्ध हैं, जैसे –

★ बीकॉम ऑनर्स (BCom Honours)
★ बीकॉम अकाउंटिंग एंड टैक्सेशन (BCom Accounting and Taxation)
★ बीकॉम सांख्यिकी (BCom Statistics)
★ प्रबंधन लेखा और अंतर्राष्ट्रीय वित्त में बीकॉम (Management Accounting & International Finance)
★ लेखा में बीकॉम (BCom in Accounting)
★ बीकॉम एप्लाइड इकोनॉमिक्स (BCom Applied Economics)
★ बीकॉम बैंकिंग एंड फाइनेंस (BCom Banking & Finance)

गणित विषय के बिना 11 वीं – 12 वीं में कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए भी स्नातक के लिए कई सारे विकल्प मौजूद है, जैसे –

★ बीकॉम जनरल (BCom General)
★ बीकॉम बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (Business Administration)
★ बीकॉम मार्केटिंग (BCom Marketing)
★ बीकॉम टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट (BCom Tourism & Travel Management)

Chartered Accountant (CA) यदि आप स्नातक नही करके कुछ और करना चाहते है तो आप चार्टर्ड अकाउंटेंसी या सीए का कोर्स कर सकते है, जिससे कॉमर्स के छात्र चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) बन सकते हैं।

भारत में चार्टर्ड एकाउंटेंट (CA) बनने के लिए, उम्मीदवार को ‘द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया’ (ICAI) के साथ पंजीकरण या रजिस्टर करना होता है। कोई भी उम्मीदवार जिसने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कम से कम 50 प्रतिशत अंको के साथ 12 वीं कक्षा पास की हो, वो चार्टर्ड अकाउंटेंसी का कोर्स करने यानी चार्टर्ड एकाउंटेंट (CA) बनने के लिए पात्रता रखता है।

सीए कोर्स पूरा करने के लिए प्रमुख परीक्षाएं (Exams of CA) इस प्रकार हैं –

★ सामान्य प्रवीणता परीक्षा (Common Proficiency Test – CPT Exam)
★ एकीकृत व्यावसायिक क्षमता पाठ्यक्रम (Integrated Professional Competence Course – IPCC Exam)
★ अंतिम पाठ्यक्रम (Final Course -Final Exam)

Company Secretary (CS) कॉमर्स के स्टूडेंट के लिए एक और अच्छा विकल्प है कंपनी सचिव (CS) का कोर्स, जिसमे प्रवेश ले कर कॉमर्स के छात्र 12वी कक्षा के बाद कंपनी सेक्रेटरी बन सकते हैं। कोई भी उम्मीदवार जिसने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कम से कम 50 प्रतिशत एग्रीगेट के साथ 12 वीं कक्षा कॉमर्स विषय से पास की हो, वो सीएस के कोर्स (CS Course) के लिए अप्लाइ कर सकता है।

CS का Course/पाठ्यक्रम करने के लिए और सीएस की डिग्री (CS Degree) हासिल करने के लिए उम्मीदवार को ‘इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया’ (ICSI) के साथ पंजीकरण या रजिस्टर करना होता है। कंपनी सचिव बनने के लिए प्रमुख पाठ्यक्रम चरण इस प्रकार है –

★ सीएस फाउंडेशन कार्यक्रम (Foundation Programme)
★ सीएस कार्यकारी कार्यक्रम (Executive Programme)
★ सीएस व्यावसायिक कार्यक्रम (Professional Programme)

NEP 2020 – नयी शिक्षा नीति की जानकारी

Professional courses after 12th commerce stream

बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (BBA), बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (BMS) और मास्टर ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट (MBA) बिजनेस स्टडीज से संबंधित कोर्स है जो 12वीं के बाद Commerce wale स्टूडेंट्स कर सकते है। बीबीए / बीएमएस व्यवसाय प्रबंधन यानी बिजनेस मैनेजमेंट में कैरियर बनाने के लिए स्नातक की डिग्री है और एमबीए व्यवसाय प्रबंधन में कैरियर बनाने के लिए स्नातकोत्तर की डिग्री है।

★ Bachelor of Business Administration – BBA
★ Bachelor of Business Studies -BMS
★ Master of Business Administration – MBA

Different career options after 12th commerce

उपर्युक्त पाठ्यक्रमों के अलावा, 12वीं के बाद Commerce स्टूडेंट आर्ट्स या कला स्ट्रीम से संबंधित विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश ले सकता है, कुछ कोर्स इस प्रकार है, जैसे –

★ BA in Humanities & Social Sciences
★ BA in Arts – Fine/Visual/Performing
★ Bachelor of Fine Arts -BFA
★ BDes in Animation
★ BA LLB – BA Latin Legum Baccalaureus
★ BDes – Bachelor of Design
★ BSc in Hospitality & Travel – Hotel Management
★ BSc in Design
★ Bachelor of Journalism & Mass Communication – BJMC
★ BHM in Hospitality & Travel
★ Bachelor of Journalism – BJ
★ Bachelor of Mass Media – BMM
★ BA in Hospitality & Travel
★ BA in Animation
★ Diploma in Education – DEd

यदि कोई छात्र स्नातक या कोई अन्य कोर्स करने की बजाय जॉब या नौकरी करना चाहता है तो वह कक्षा 12 वीं कॉमर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद बैंकिंग, रक्षा और सिविल सर्विस जैसे क्षेत्रों में अपना करियर बनाने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करके परीक्षाओं में भाग ले सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here