Coronavirus से जुडी बातें, सच है या झूठ?

Coronavirus Myths And Facts

संक्रामक महामारी COVID-19 जिसका पूरी दुनिया में फैलाव चीन में पनपे एक वाइरस coronavirus के कारण हुआ है जिससे पूरे विश्व में बहुत ही बुरे हालत बन गये है। यहा पर हम कोरोना वायरस से जुड़े सच और झूठ (Coronavirus Myths And Facts)/Myths About Coronavirus in India in Hindi के बारे में जानेंगे।

Coronavirus Myths And Facts in Hindi

कोरोना वायरस (COVID-19) जैसी महामारी पूरी दुनिया में बहुत ही तेज़ी से फैल चुकी है और हर रोज़ लाखो लोगो इसके चलते मर रहे है, इस वाइरस (Coronavirus) के फैलाव को नियंत्रित करना किसी भी देश के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। ज़्यादातर देशों की सरकारें इस वाइरस को फैलने से रोकने के लिए काम भी कर रही हैं और दुनिया भर के डॉक्टर और वैज्ञानिक करोना वाइरस के उपचार यानी वेक्सीन को खोजने में लगातार लगे हुए हैं।

इस वाइरस ने लोगो को पूरी तरहा से डर से भर दिया हैं, जिससे लोग इस महामारी के बारे में फैल रही हर प्रकार की जानकारी, चाहे सच हो या झूठ हो, हर बात पर बिना सोचे समझे विश्वास कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में सच जानना बहुत जरूरी हो जाता है।

इस पोस्ट में कोरोना वायरस के बारे में प्रचलित झूठे मिथकों और COVID-19 से जुड़े सच्चे तथ्यों की जानकारी दी गयी है जिनको जानकार आप खुद को और अपने परिवार को कोरोना वायरस से जुड़े झूठे मिथकों से बचाकर, स्वस्थ व सुरक्षित रह पाएँगे यहा दी गयी जानकारी WHO विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा उनके वेब-पेज पर दी गई है।

Myths and Facts about Coronavirus in Hindi

1. अभी तक पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमित के उपचार के लिए कोई भी लाइसेंस प्राप्त दवाइयाँ जैसे टॅब्लेट्स और वॅक्सीन उपलब्ध नहीं है।

2. इस बात का कोई वैज्ञानिक सबूत नहीं है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन या कोई भी दूसरी दवा कोरोना संक्रमित को ठीक कर सकती है।

3. करोना वाइरस से पीड़ित व्यक्ति मेथनॉल, इथेनॉल या शराब जैसी चीज़ो के सेवन से बिकुल भी ठीक नहीं हो सकता है और ये चीज़े किसी के लिए भी बहुत ही खतरनाक साबित हो सकती है।

4. किसी भी तरह की असुविधा महसूस किए बिना पूरे 60 सेकंड या उससे ज़्यादा समय के लिए अपनी साँस को रोक लेने में सक्षम होने का मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि आपको कोरोना संक्रमण नही होगा।

5. डिस्पोजेबल सर्जिकल मास्क जैसे फेस मास्क किसी को भी कोरोना संक्रमण से नही बचा सकता है, कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए “फेस मास्क ज़रूर पहने” लेकिन ऐसे मास्क का ही इस्तेमाल करे जो कसकर आपके नाक और मुह को अच्छे से कवर करते हो और कम से कम 2 या 3 लेयर्स/परतों वाले हो।

6. कोरोना से हर उम्र के लोग संक्रमित हो सकते है, उम्रदराज़ बुजुर्ग लोग और वो लोग जो पहले से किसी बड़ी बीमारी जैसे अस्थमा, हृदय रोग, मधुमेह का इलाज़ करवा रहे है, वे इस वायरस से काफ़ी गंभीर रूप से पीड़ित हो सकते है।

7. गर्म पानी से नहाने, अपने शरीर पर ब्लीच या और किसी तरह के कीटाणुनाशक का छिड़काव करने और हॅंड ड्राइयर से अपने हाथ सुखाने से आप कोरोना जैसे ख़तरनाक वाइरस को ख़त्म नही सकते है।

8. इस बात का भ्रम बिल्कुल भी नही रखना चाहिए कि किसी मच्छर के काटने और मखियो से कोरोना वाइरस फैलता है, यह एकदम ग़लत अफवाह है।

9. अगर आपको महसूस होता है कि आपको बुखार है या आपके शरीर का तापमान सामान्य से अधिक है तो आप अपने शारीर के तापमान की जाँच थर्मल स्कैनर्स से घर पर ही कर सकते है और तापमान के सामान्य से अधिक पाए जाने या कुछ अन्य कोरोना के लक्षण पाए जाने पर COVID-19 का टेस्ट ज़रूर करवा ले।

10. कोरोना वायरस गर्म तापमान वाले स्थानों, आर्द्र जलवायु वाले क्षेत्रों और ठन्डे प्रदेशो में भी फैल सकता है, इसके साथ ही ठंड का मौसम व बर्फ भी कोरोना को समाप्त नही कर सकता है।

ये कुछ ख़ास कोरोना से जुड़े सच्चे व झूठे मिथक और तथ्य (Coronavirus Myths And Facts) आपको COVID-19 से बचने, कोरोनो के संक्रमण को फैलने से रोकने, कोरोना को ख़त्म करने, कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ऐतियात के रूप में काम आ सकते है।

अन्य भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here