महिलाओं के लिए बिज़नेस लोन?

भारत में महिला उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई लोन और बिज़्नेस योजनाओ के तहत महिलाओ (Women Entrepreneurs of India) को मदद की पेशकश करती है। जिसका मकसद महिलाओ को लघु उद्योग और छोटे व्यवसाय की शुरूवात करने के लिए आर्थिक मदद देना है।  

women entrepreneurs India

भारतीय महिला उद्यमी (Women Entrepreneurs in India)

फीमेल एंट्रेपरेणेउर्स यानी महिला उद्यमी (Women Entrepreneurs OR Female Entrepreneurs) वे खास महिलाएं, जो किसी व्यवसाय या उद्योग को व्यवस्थित और प्रबंधित करती हैं। 21 वीं सदी के दौरान भारत में महिला उद्यमशीलता लगातार बढ़ी है जिससे भारत में महिला स्वामित्व वाले व्यवसायों में काफ़ी हद तक वृद्धि हुई है जो कि महिला सशक्तीकरण में बड़ा योगदान है।

पिछले कुछ सालो में भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति व हैसियत में काफ़ी बदलाव आया है, आज के समय में भारतीय महिलाएं देश की अर्थव्यवस्था के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं और लगभग हर कार्य क्षेत्र में महिलाए अच्छी सफलता भी प्राप्त कर रही है। जैसे कि 

  • किरण मजूमदार शॉ, भारत की सबसे अमीर स्व-निर्मित (सेल्फ़-मेड) महिला है, जिन्होंने 1978 में एक बायोफार्मास्युटिकल (जैव औषधि) कंपनी की शुरूवात की थी।
  • सुचि मुखर्जी, इन्होने 2012 में कपड़े और लाइफस्टाइल एसेसरीज बेचने के लिए लाइमरोड (Limeroad) नाम के ऑनलाइन मार्केटप्लेस की स्थापना की थी।
  • वंदना लूथरा, एक भारतीय व्यवसायी महिला जिन्होंने वीएलसीसी नाम की एक सौंदर्य और स्लिमिंग सर्विसिंग कंपनी को 1989 में शुरू किया था।
  • फाल्गुनी नायर, एक बैंकर के रूप में 20 साल काम करने के बाद, उन्होंने 2012 में कंपनी न्यका (Nykaa) शुरू करने के लिए नौकरी छोड़ दी थी, इनकी कंपनी ऑनलाइन कॉस्मेटिक और वेलनेस प्रॉडक्ट्स बेचती है।
  • राधिका अग्रवाल, फैशन डिज़ाइनिंग, विज्ञापन इंडस्ट्री और अन्य कई उद्योगों में 15 वर्षों से अधिक का अनुभव प्राप्त करने के बाद, वे शोपक्लूएस.कॉम (Shopclues.com) की सह-संस्थापक (Co-founder) बन गईं।

Related Articles

महिलाओं के लिए बिज़नेस लोन

भारत में महिला सशक्तीकरण और वित्तीय लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार छोटे व्यवसायो को शुरू करने के लिए लोन प्रदान करती है, जो महिलाए अपना छोटा व्यवसाय शुरू करने में दिलचस्पी रखती है, वे सरकार की इन सुविधाओ का लाभ उठाकर आसानी से महिला उद्यमी के रूप सक्षम होकर, अपनी पहचान बना सकती है।  

भारतीय समाज के आर्थिक व सामाजिक रूप से कमजोर वर्गों और विधवाओं के साथ-साथ उन महिलाओं के लिए भी भारत सरकार द्वारा लोन के तौर पर पैसा उपलब्ध करवाया जाता है जो परिवार की मुखिया हैं या उनके परिवार की जिम्मेदारी लेने के लिए कोई पुरुष सदस्य घर में नहीं है। ये सरकारी ऋण या लोन विशिष्ट सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम वाले बैंकों और निजी व सहकारी क्षेत्रों में उनके समकक्ष कंपनियो से प्राप्त किए जा सकते हैं। कई क्रेडिट सोसाइटी भी महिला उद्यमियों को अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए बिज़्नेस लोन देती हैं। इसके साथ ही, महिला उद्यमियों के लिए बिज़्नेस या उद्योग के लिए लाइसेंस प्राप्त करने की प्रक्रिया भी बहुत आसान है।

महिला उद्यमियों को नये व्यवसाय के स्टार्टअप में मदद करने के लिए भारत में कई सरकारी योजनाए है जैसे कि…

Our Latest Posts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here