Impact of Social Media on Human Behaviour – सोशल मीडिया का प्रभाव

किशोर विभिन्न जीवन को रोमांचक बनाने के लिए सामाजिक मीडिया प्लेटफार्मों परअपना प्रोफाइल बनाते है, जिसने किशोरो की पहुंच और जानकारी साझा करने के तरीके को प्रभावित किया है, social media affects करता है। 
 
सोशल मीडिया किशोरों को अपने दोस्तों से बात करने, समूह/ग्रूप चर्चा में शामिल होने, वर्तमान घटनाओं को जानने और ऑनलाइन जानकारी के साथ अपडेट रहने की अनुमति देता है।
Social Media computer Affects

Teenage life – possibly adult life too is all about what you want and can’t have. And then about what you receive and misuse. –Jonathan Lethem

किशोर हमेशा यह जानने के लिए उत्सुक रहते हैं कि उनके दोस्तों ने सोशल मीडिया पर क्या पोस्ट किया है,  इस तरह के पदों/पोस्ट पर टिप्पणी करने के लिए बहुत समय सोशियल मीडीया पर बिताते है।
 
इस तरह देर रात तक संदेशों, वीडियो और तस्वीरों का आदान-प्रदान करते रहते हैं, जिससे उनकी नींद प्रभावित होती है, Social Media Affects
 
सोशल मीडिया पर किशोर वर्तमान फैशन, संगीत, और अन्य प्रासंगिक जानकारी पर अपडेट होने के लिए सोशल मीडिया का ज़्यादा उपयोग करते हैं।
 
संचार और सूचना के अलावा, सोशल मीडिया ने उनके विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैसोशल मीडिया से किशोरों को अपनी बौद्धिक क्षमता में सुधार होता है उदाहरण के लिए, बच्चे महत्वपूर्ण सोच कौशल और समस्या को सुलझाने के कौशल विकसित करने में सक्षम हैं।
 
इसके अलावा, उन्होंने बेहतर नैतिक सोच विकसित की है क्योंकि वे कल्पना और विभिन्न वृत्तचित्रों में पारिवारिक मूल्यों की तुलना कर सकते हैं।
Social Media  Mobile Affects
अक्सर सोशल मीडिया का विभिन्न तरीकों से दुरुपयोग भी किया जाता है, सोशल मीडिया के अलग-अलग मंच हैं जो प्रासंगिक नहीं है जोकि युवा पीढ़ी के बीच समाज में अनैतिकता की दर को बढ़ाती है ।
 
अनैतिक और अश्लील सामग्री सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर पहले से कहीं अधिक आसानी से फैली हुई हैं।
 
इसके अलावा, किशोर नफरत भरे संदेशों (Hate Comments) को साझा करने के लिए सोशल मीडिया का भी उपयोग करता है। इस प्रकार, इसने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी है, जहां कई सामाजिक बुराइयां बढ़ रही हैं।
 
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि फेसबुक, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम पर किशोरों द्वारा अश्लील सामग्री को आसानी से फैलाया और साझा किया जा रहा है, जिससे समाज के नैतिकता का विनाश हो रहा है।
 
ज्यादातर किशोर जो रात में सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं, वे पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं। काम के समय के दौरान भी अक्सर सोशल मीडिया का उपयोग करने के कारण किशोरों में अवसाद और चिंता के जोखिम बढ़ जाते हैं।
Social Media Affects
यह माता-पिता की ज़िम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों को ऐसी चीज़ो, जो उनकी पढ़ाई में बाधा उत्पन्न कर सकती है, से दुर रखे, माता-पिता को अपने बच्चों को सोशल मीडिया से अश्लील सामग्री तक पहुँचने से हतोत्साहित करना चाहिए।
 
उन्हें निगरानी करनी चाहिए कि किशोर सोशल मीडिया का उपयोग कैसे करते हैं। किशोरों को उनका वास्तविक काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि वो अपने काम या पढ़ाई पर फोकस कर सके।
आख़िर में, यह स्पष्ट है कि सोशल मीडिया (Social Media Affects) ने किशोरों को अवसर और चुनौतियां प्रदान की हैं। इसलिए यह उनके जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव डालता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here