इंटीरियर डिजाइन (Interior Design) का इतिहास ?

किसी जगह के आंतरिक भाग का सही तरीके से उपयोग, उपयोगकर्ता की ज़रूरत, बदलती जीवन शैली और कार्यात्मक रचना ने वक़्त के साथ इंटीरियर डिजाइन के पेशे को जन्म दिया है। इंटीरियर डिजाइन का पेशा समाज में जीवन शैली का स्तर बढ़ने और औद्योगिक प्रक्रियाओं के विकास के परिणामस्वरूप वास्तुकला का परिणाम है। History of Interior Design क्या है? इस बारे में कुछ बातो का विवरण यहा विस्तार से किया गया गया है। 

Interior Design की History के बारे में बात करे तो पुराने समय में इंटीरियर डिज़ाइन किसी भवन के निर्माण की प्रक्रिया का एक छोटा हिस्सा होता था, अलग से यह कोई बड़ा नही व्यवसाय था। अगर भारत की बात करे तो यहा पर पुराने समय में आर्किटेक्ट ही इंटीरियर डिजाइनर के रूप में काम करते थे जिनको विश्वकर्मा वास्तुकार के नाम से पहचाना जाता था इसके अलावा प्राचीन ग्रंथों और घटनाओं को दर्शाती मूर्तियां पुराने भारत में बने महलों में आसानी से देखी जा सकती है।

वही मध्यकाल में, भारत में दीवार चित्र कला ही किसी महल और हवेली की एक सामान्य विशेषता रही है। राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में लगभग 2000 हवेलियाँ मोजूद है जिनकी दीवारे चित्र कला से सजाई हुई है।

17 वीं से 19 वीं शताब्दी के दौरन, इंटीरियर डेकोरेशन एक नियोजित शिल्प कला होती थी, जिसमे शिल्पकार आंतरिक स्थान के लिए कलात्मक शैली पर अपनी सलाह देते थे और आर्किटेक्ट इमारतों के आंतरिक डिजाइन को पूरा करने के लिए इन शिल्पकारों व कारीगरों को नियुक्त करके उनसे काम करवाते थे।

पुराने समय के विभिन्न राजवंशों के अलग-अलग निवासों के आंतरिक डिजाइन में खम्भो, दीवारो, खिड़कियो और दरवाजो की रचना में खास काम किया जाता था जोकि इतिहासिक भवनो में आज भी आसानी से देखने को मिल जाता है।

आज के इंटीरियर डिजाइन में पुराने समय से बहुत ज़्यादा बदलाव आया है, पहले यह काम किसी निर्माण कार्य का एक हिस्सा होता था लेकिन अब यह एक बहुत परचलित व्यवसाय बन गया है।

Kisi jagah ke aantarik hisse ka sahi tarike se upayog, upayogakarta ki zarurat, badalati jivan shaili aur karyatmak rachana ne waqt ke sath interior design ke peshe ko janm diya hai. Is post me janenge History of Interior Design

Interior design ka pesha samaj mein jivan shaili ka level badhane aur audyogik prakriyaon ke vikas ke parinamasvarop vastukala ka parinam hai. 

Purane samay mein interior design ko kisi imarat ke nirman ki prakriya ka ek chhota hissa hota tha, alag se yah koi bada vyavasay nahin tha.

Agar bharat ki baat kare to yaha purane samay mein aarkitekt hi interior design ke roop mein kaam karate the jinako vishvakarma padati ke naam se pahchana jaata tha, isake alaava prachin granthon ko darshati murtiyaan purane bharat mein bane mahalo mein asani se dekhi ja sakati hai.

History of Interior Design

Wahi madhyakal mein, bharat mein divar chitr kala hi kisi mahal aur haweli ki ek samany visheshata rahi hai. 

History of Interior Design ki baat ki jaye to, 17 vi se 19 vi shatabdee ke dauran, interior decoration ek niyojit shilp kala hoti thi, jisme shilpakar antarik sthan ke liye kalatmak shaili par apani salah dete the aur vastukar imaarato ke aantarik design ko pura karne ke liye in shilpakaro aur karigaro ko niyukt karake unse kaam karwate the.

Purane samay ke vibhin rajavansho ke alag-alag nivaaso ke aantarik design mein khambho, diwaro  aur darawajo ki rachana mein vishesh kam kiya jata tha joki ithasik bahwano mein aaj bhi aasani se dekhane ko mil jata hai.

Aaj ke interior design mein purane samay se bahut adhik badalav aaya hai, pahle yah kaam kisi nirman kary ka ek hissa hota tha, lekin ab yah ek bahut parchalit vyavasay ban gaya hai.

Aaj ke samay mein Interior Design ke paise ne bhut se logo ke liye ek behtarin career ka rasta khola hai, isme Interior Designer AutoCAD ka istemaal karke plan or drawing banate hai. 

2 Replies to “इंटीरियर डिजाइन (Interior Design) का इतिहास ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *